www.poetrytadka.com

Galib Ki Shayari


यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो
yahee hai aazamaana to sataana kisako kahate hain

adoo ke ho lie jab tum to mera imtahaan kyon ho
हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन
दिल के खुश रखने को ग़ालिब ये ख़याल अच्छा है
hamako maaloom hai jannat kee haqeeqat lekin
dil ke khush rakhane ko gaalib ye khayaal achchha hai

Mirza Ghalib Shayari