www.poetrytadka.com

Aatma ki shanti


धन खोकर अगर हम अपनी आत्मा को पा सकें तो यह कोई महंगा सौदा नहीं !!

Munshi Premchand