www.poetrytadka.com

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक,
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक.
Aah ko chaahie ik umr asar hote tak,
kaun jeeta hai tiree zulf ke sar hote tak.

Aah Ko Chahiye