www.poetrytadka.com

pareem rog ho gya

तुम जो मिली ये भी क्या संयोग हो गया है !
मेरे दिल की धड़कनो का भी कुछ योग हो गया है !
कैसे बताऊँ कि हालात मेरे कैसे हैं !
ऐसा लगता है प्रेम रोग हो गया है !!