www.poetrytadka.com

Nmak ki trah ho gai

नमक की तरह हो गई है ज़िन्दगी ''लोग स्वाद की तरह इस्तिमाल करते है