www.poetrytadka.com

nahi zina ab mujhe

नहीं जीना मुझे अब उस नकली अपनों के मेले में !
खुश रहने की कोशिश कर लूंगा, खुद हीं अकेले में !!