nahi kehti

नहीं कहती, के मुझे सबसे ज्यादा चाहो

पर एक नज़र प्यार से तो उठाया करो.

.

नही कहती, के हाथ बंटाओ मेरा

पर कितना करती हूँ, देख तो जाया करो

.

नही कहती, के #हाथ पकड के चलो मेरा

पर कभी दो कदम साथ तो आया करो

.

यूँ ही गुज़र जाएगा जिंदगी का सफ़र भागते भागते

एक पल थक के साथ तो बैठ जाया करो

.

नही कहती, के कई नामों से पुकारो

एक बार फुर्सत से सुनो ही कह जाया करो

.

नहीं कहती हूँ आपसे कि चाँद -तारे तोडकर लाओ

पर जब आते हो, एक मुस्कान साथ लाया करो

कृपया शेयर जरूर करें

Read More