www.poetrytadka.com

Mujhe yaad karne ki

कैसा वक्त है कि उसे फुर्सत ही नहीं मुझे याद करने की

कभी वो शख्श और मै एक ही साँस से जिया करते थे