www.poetrytadka.com

mujhe preshan kiya tune

ख्वाहिशों कि जमीन को जो विरान किया हैं तूने !
ए जिंदगी मुझे बार बार, यूँ हैरान किया हैं तूने !
किसी को भी मुझसे अब शिकायत नहीं रहती !
देख किस कदर, मुझे परेशान किया हैं तूने !!