www.poetrytadka.com

mujhe ghamand tha

mujhe ghamand tha
मुझे घमंड था की मेरे चाहने
वाले बहुत है इस दुनिया में
बाद में पता चला की सब चाहते है
अपनी जरूरत के लिए