www.poetrytadka.com

Mohabbat ki trah

मोहब्बत" की तरह "नफरत" का भी साल में एक

ही दिन तय कर दो कोई

ये रोज़-रोज़ की नफरतें अच्छी नहीं लगतीं