www.poetrytadka.com

mohabbat ki naa sahi

मोहब्बत की न सही मेरे सलीके की तो दाद दे !
रोज़ तेरा ज़िक्र करता हूँ बगैर तेरा नाम लिए !!