www.poetrytadka.com

Mhak utni hi bikhri

इलाइची के दानो सा मुक़द्दर है अपना !
महक उतनी ही बिखरी पीसे गए जितना !!