www.poetrytadka.com

meri kismat

खुदा ने लिखा ही नहीं तुझको मेरी किस्मत में शायद

वरना खोया तो बहुत कुछ था एक तुझे पाने के लिए