www.poetrytadka.com

mere hamsfar mere hamsfar

तेरा रंग साया बहार का, तेरा रूप आईना प्यार का !
तुझे आ नज़र में छुपा लू मैं, तुझे लग ना जाये कही नज़र !
किसी राह में, किसी मोड़ पर किसी हाल में, किसी बात पर !
कही चल ना देना तू छोड़कर, मेरे हमसफ़र, मेरे हमसफ़र !!