www.poetrytadka.com

mera nahi huaa

मेरी ख्वाहिशें तो आसमान पर जाने की थी !
पर मेरा चाँद तो धरती पर होकर भी मेरा नही हुआ !!