www.poetrytadka.com

Mehndi ke patton jaisa bano

"पीपल के पत्तों जैसा मत बनिए जो वक्त आने पर सूख कर गिर जाते हैं, बनना है तो मेहँदी के पत्तों जैसा बनिए जो पिस कर भी दूसरों की जिंदगी में रँग भर देते हैं...!!!"