www.poetrytadka.com

mat de duaa

मत दे दुआ किसी को अपनी उमर लगने की

यहाँ ऐसे भी लोग है जो तेरे लिए जिन्दा हैं