www.poetrytadka.com

Make your tongue used to the well-being of others

अपनी जुबान को दूसरों की सलामती का आदी बना लो इससे दोस्त बढ़ते हैं और दुश्मन कम होते हैं।