mai mushafir hun

dard shayari in hindi mai mushafir hun

मैं मुसाफ़िर हूँ ख़तायें भी हुई होंगी मुझसे !

तुम तराज़ू में मग़र मेरे पाँव के छाले रखना !!

मुख्य पेज पर वापस जाए