www.poetrytadka.com

Mai hasta hoon

मैं हँसता हूँ तो बस अपने ग़म छिपाने के लिए !

और लोग देख के कहते है काश हम भी इसके जैसे होते !!

mai hasta hoon