www.poetrytadka.com

Mahboob ka mara tha

खुला पिंजरा देखकर भी उड ना सका वो आजाद परिंदा !
शायद वो भी किसी महबूब का मारा था !!