www.poetrytadka.com

Maa Ke Liye Shayari

एक हस्ती है जो जान है मेरी। 
जो जान से बढ़कर शान है मेरी।
रब हुक्म दे तो कर दूँ सजदा उसे 
क्योंकि वो कोई और नहीं माँ है मेरी 
Aik hasti hai jo jaan hai meri
jo jaan se badhkar shaan hai meri
rab huqm de to kar dun sajda usey
kyonki wo koi aur nahin maa hai meri.

बिन बताये वो हर 
बात जान लेती है
माँ तो माँ है मुस्कुराहटों 
में गम पहचान लेती है.
Bin bataye wo har
baat jaan leti hai.
Maa to maa hai muskurahaton 
me bhi gam pahchaan leti hai.

Maa Ke Liye Shayari