www.poetrytadka.com

Kya karu

क्या लिखूँ दिल की हकीकत आरज़ू बेहोश है !

ख़त पर हैं आँसू गिरे और कलम खामोश है !!

Kya karu