www.poetrytadka.com

Kuda aap ko nazro bad se bchaae

खुदा आपको नजरे बद से बचाए 

कही दोस्तों की नज़र न लग जाए 

सलामत रहे ये सराबी निगाहे 

कही दोस्तों की नज़र न लग जाए 

मोहब्ब्बत के दिन है मोहब्बत के राते 

लबो पे है हरदम मोहब्ब्बत की बाते

बड़ी खुबसूरत लगे जिन्दगानी

तेरे नाम कर दी है मैंने जवानी 

क्यालो में भी ना कोई खुशबू  चुराए 

कही दोस्तों की नज़र न लग जाए 

मै कैसे बताऊ तुम्हे अपनी मुश्किल 

कोई तुम को देखे तो धडके मेरा दिल 

कलेजे से तुम को लगा के रखूंगी 

तुझे धडकनों में बसा के रखूँगी

मै बैठा हूँ पलकों में तुम को छुपाए 

कही दोस्तों की नज़र न लग जाए

Kuda aap ko nazro bad se bchaae