www.poetrytadka.com

kuch pabandi

kuch pabandi

कुछ पाबंदी भी लाज़मी है दिल्लगी के लिए !

किसी से इश्क़ अगर हो तो बेपनाह न हो !!