www.poetrytadka.com

kuch aise ho gaye

कुछ ऎसे हो गए है.इस दौर के रिश्ते

जो आवाज़ तुम न दो तो बोलते वो भी नही