www.poetrytadka.com

koi ruthe to use mnana sikho

कोई टूटे तो उसे बनाना सीखो !
कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो !
रिश्ते तो मिलते हैं मुक़द्दर से बस !
उन्हें ख़ूबसूरती से निभाना सीखो !!