www.poetrytadka.com

koi apna rooth naa jaae

कई बार गलती के बिना गलती मान लेते है हम !
क्यूकी डर लगता है कोई अपना रूठ ना जाए !!