www.poetrytadka.com

kitna nadan hai ye dil

kitna nadan hai ye dil

कितना नादान है ये दिल कैसे समझाऊँ की

जिसे तू खोना नही चाहता हैं, वो तेरा होना नही चाहता है !!