www.poetrytadka.com

Kismat Shyari

किस्मत ने जैसा चाहा वैसे ढल गए हम !

बहुत संभल के चले फिर भी फिसल गए हम !

किसी ने विश्वास तोडा तो किसी ने दिल !

और लोगों को लगा कि बदल गए हम !!