www.poetrytadka.com

Kiska intzaar hai

हमने जला के रखी है, उल्फत की एक शमां !

है किसका इंतज़ार, हमे खुद पता नहीं !!