www.poetrytadka.com

kisi ki burai mat kro

अपनी जुबान से किसी की बुराई मत करो !
क्योंकि बुराईयाँ तुममें भी हैं और ज़ुबान दूसरों के पास भी है !!