www.poetrytadka.com

Khush raho tum

Last Updated

दिल से मेरी दुआ है कि खुश रहो तुम 

मिले न कोई गम जहाँ भी रहो तुम

समंदर की तरह दिल है गहरा तुम्हारा

सदा खुशियों से भरा रहे दामन तुम्हारा