www.poetrytadka.com

khubsurti se dhokha

खूबसुरती से धोखा न खाइये जनाब !
तलवार कितनी भी खूबसुरत कयों न हो मांगती तो खून ही है !!