www.poetrytadka.com

khubsurti bhut di khuda ne

khubsurti bhut di khuda ne

खूबसुरती बहुत दी खुदा ने तुम्हे 

मगर हमे तुम्हारी वफा ना मिल स्की 

बहुत आग दी हमने बुझते चिराग को 

मगर मोहब्बत की शमा जल ना सका