www.poetrytadka.com

Khi aur chale ja

Last Updated
नज़र -ए-बाद से बचना है तो कही और चले जा !
मैं तुझे देखता हूँ तो पलके झपकती ही नहीं !!