www.poetrytadka.com

Khamoshiyan bhi bolti hain

Last Updated

"लोग कहते हैं समझो तो खामोशियाँ भी बोलती हैं,

 

मैं अरसे से ख़ामोश हूँ वो बरसों से बेख़बर है...!"