www.poetrytadka.com

Karte hai barbaad

कोहनी पर टिके हुए लोग टुकड़ों पर बिके हुए लोग !

करते हैं बरगद की बातें गमलों मे उगे हुए लोग !!