www.poetrytadka.com

Kal ki trah

एक उम्र बीत चुकी है...तुझे चाहते हुए !
और तू आज भी बेखबर है..कल की तरह !!