www.poetrytadka.com

Kahte hai ki

कहते हैं की हर चीज़ की एक इन्तेहा होती है !

फिर ये मुहब्बत क्यूँ किसी से बे इंतेहा होती है !!

kahte hai ki