www.poetrytadka.com

Kagaz pe utar leta hoo

Last Updated

मैं अपनी सुबह शाम यूँ ही गुजार लेता हूँ !

जो भी ज़ख्म मिलते हैं कागज़ पे उतार लेता हूँ !!