www.poetrytadka.com

kabhi tuta hi nahi

कभी टुटा ही नही मेरे दिल से तेरी यादो का सिलसिला !
गुफ्तगु चाहे जिससे हो याद तो तुम ही रहती हो !!