www.poetrytadka.com

Kabhi soncha nahi tha

कभी सोचा नही था वो भी मुझे तनहा कर जाएगी !
जो परेशांन देख कर अक्सर कहती थी..."मैं हूँ ना !!