www.poetrytadka.com

jo roya hai uski aankhe nam nahi

जो रोया है उसकी आँखे नम नही !
सब लौग सोचते है ईसे कोई गम नही !
आँसु पोछंकर हमने मुस्करा दिया !
गम पिकर मुस्कराना किसी दर्द से कम तो नही !!