www.poetrytadka.com

jo duhai nahi deta

मैं जुर्म-ए-ख़मोशी की सफ़ाई नहीं देता !
ज़ालिम उसे कहिए जो दुहाई नहीं देता !!