www.poetrytadka.com

jo dil ke kreeb hai wo anzan bhut hai

ज़रा सी ज़िंदगी है, अरमान बहुत हैं !
हमदर्द नहीं कोई, इंसान बहुत हैं !
दिल के दर्द सुनाएं तो किसको !
जो दिल के करीब है, वो अनजान बहुत हैं !!