www.poetrytadka.com

Jis ghade ke pede

"जिस घड़े के पेंदे में छोटा सा भी छेद हो जाता है उसमें पानी नहीं ठहरता, जिस मनुष्य का आचरण बुरा है उसमें सदगुण नहीं ठहरते...!!!"