www.poetrytadka.com

jeene do

जीने दो बचपन को खुली हवा की बांहों में

मुस्कान दो तुम इन्हें क्योंकि 

ख़ौफ़ तो बहुत है ज़माने में