www.poetrytadka.com

jeena muhal kar rakhkha hai

ज़ीना मुहाल कर रखा है,मेरी इन आँखों ने !
खुली हो तो तलाश तेरी,बंद हो तो ख्वाब तेरे !!